Friday, 21 August 2009

मै धन्य हो गया ,,,,,(कविता)



निरन्तर संकुचित होती ,,
अपनी भावनाओं को सकेंद्रित कर ,,,
परिवर्तन की राह की ओर ताकता हुआ ,,
आत्मनिरिक्षण कर रहा हूँ,,
निज परिक्षण कर रहा हूँ ,,,
कुछ उनीदी सी छा रही है ,,
पर चैतन्य हूँ ,,,
कर रहे है चेष्टा मार्ग अबरुद्ध करने की ,,,
मौन के विशाल बबंडर,,,,
आ रही है एक नयी चुनौती ,,
हर पग पर ,,
गम्भीरता को मैंने ओढ़ रक्खा है ,,
फिर भी विचल हूँ ,,
स्थर होने के प्रयत्न में भी ,,,
चल हूँ ,,,
विपरीत परिस्थितिया ,,
आकास्मिक आघात कर रही है ,,,,
विपन्ता निरन्तर घात कर रही है ,,,
पर निज का खुला पन ,,,
मिलन की राह तैयार कर रहा है ,,,
उस पर तेरा सम्बोधन ,,,
सम्मिलन की राह तैयार कर रहा है ,,,
तभी कुछ हवाओं सी सनसनाहट हुई ,,,
और मै विलुप्त हो गया ,,
अब तू ही है "मै " लुप्त हो गया ,,,
ओ अकिंचन दिव्यद्रष्टा ,,,
मै धन्य हो गया ,,,,,

14 comments:

रंजना said...

वाह ! वाह ! वाह ! अभिभूत कर दिया आपकी इस रचना ने.....मैं भी इसे पढ़ धन्यता अनुभूत कर रही हूँ....वाह !! अद्भुत लेखन....

Mithilesh dubey said...

भाई वाह प्रवीन जी क्या बात है। आपके इस रचना के लिए तो बस,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,, बहुत बढिया,,,,,,,,,,,,,लाजवाब,,,,,,,,,,,,,,,,,बेहतरिन,,,,,,,,,,,,,,,,,,,शानदार,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

M VERMA said...

स्थर होने के प्रयत्न में भी ,,,
चल हूँ ,,,
अंतर्द्वन्द की मन:स्थिति और कटु यथार्थ.
शायद इसी स्थिरता की चाहत ही तो है जो हमे हमेशा चलायमान रखती है.
बेहतरीन प्रस्तुति

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

शुक्ल जी!
इस भाव-भीनी रचना के लिए बधाई।

gargi gupta said...

Every successful person has a painful story! Every painful story has a successful ending! So accept the pain and get ready for success!

god bless you

विनोद कुमार पांडेय said...

आपने बेहतरीन शब्दों के प्रयोग से कविता को लाज़वाब बना दिया है..विचारो की दृष्टि से भी देखे तो मुझे इसमे निहित सुंदर भाव बड़े ही प्रिय लगे..आपने एक आत्मविश्वास को जगाने की प्रेरणा का भाव भर दिया,

सुंदर भाई..बहुत सुंदर...बहुत बहुत बधाई..

विवेक सिंह said...

हम भी धन्य हो लिये इतनी अच्छी कविता पढ़कर !

धन्यवाद !

अर्चना तिवारी said...

वाह ! आपकी सुंदर रचना पढ़कर धन्य हुई

Udan Tashtari said...

धन्य हुए-अद्भुत रचना!! सुन्दरतम भाव!!

आशुतोष दुबे 'सादिक' said...

बहुत सुन्दर रचना .
हिन्दीकुंज

Harsh said...

bahut sundar post lagi.. apke blog par pahli baar aaya .. achcha laga...........

श्रद्धा जैन said...

abhiboot ho gayi hoon aapki is rachna ko padh kar
ek ek shabad moti ki tarah sahej kar likha gaya hai

Nirmla Kapila said...

बहुत सुन्दर मैं लुप्त हो गया तो ही तू है हाँ जिस्के मन मे उसकी सौरभ किरणों का उजाला हो जाये वो धन्य हो ही जाता है फिर तुम तो उसके बहुत बडे भक्त हो बहुत सुन्दर रचना है बधाई

विनोद कुमार पांडेय said...

Behtareen Abhivyakti vartmaan samaj ke aur hamare din par din aage badhane aur vicharo bhavnao ko kuchalane ki prkriya me..

Dhanywaad..praveen ji..bahut bahut dhanywaad..